लोगों की राय

लेखक:

असगर वजाहत
जन्म : 1946, फतेहपुर, उत्तर प्रदेश।

शिक्षा : अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए., पी-एच.डी. और जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली से पोस्ट डाक्टोरल रिसर्च। 1971 से जामिया मिल्लिया इस्लामिया विश्वविद्यालय, दिल्ली के हिन्दी विभाग में अध्यापन। पाँच वर्षों तक ओत्वोश लोरांड विश्वविद्यालय, बुडापेस्ट, हंगरी में अध्यापन। यूरोप और अमेरिका के कई विश्वविद्यालयों में व्याख्यान।

पाँच उपन्यास, दो लघु उपन्यास, छह पूर्णकालिक नाटक, यात्रा संस्मरण की तीन पुस्तकें, नुक्कड़ नाटकों का एक संग्रह और साहित्यिक आलोचना की एक पुस्तक प्रकाशित।

प्रमुख प्रकाशन :
  • सात आसमान
  • कैसी आगी लगाई
  • बरखा रचाई
  • मनमाटी (उपन्यास)
  • मैं हिन्दू हूँ
  • डेमोक्रेसिया (कहानी संग्रह)।

    रचनाओं का कई भारतीय और विदेशी भाषाओं में अनुवाद। नाटकों के मंचन देश-विदेश की कई भाषाओं में हैं।

    रचनात्मक लेखन के अलावा नियमित रूप से विभिन्न अखबारों और पत्रिकाओं के लिए लेखन। 2007 में बीबीसी हिन्दी के अतिथि सम्पादक। 'हंस’ पत्रिका के लिए विशेष अतिथि सम्पादक के रूप में 'भारतीय मुसलमान : वर्तमान और भविष्य’ विषय पर और 'वर्तमान साहित्य’ के लिए 'प्रवासी साहित्य’ पर विशेषांकों का सम्पादन।

    फिल्मों के लिए पटकथाएँ लिखने के अलावा धारावाहिक और डॉक्यूमेंटरी फिल्में भी बनाई हैं।

    कथा यूके सम्मान और हिन्दी अकादेमी, दिल्ली से सम्मानित; कई अन्य पुरस्कारों से भी सम्मानित।

    चित्रकला और पर्यटन में गहरी रुचि।

    सम्प्रति : प्रोफेसर, जामिया मिल्लिया इस्लामिया, दिल्ली।

अमानत की इंदर सभा

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 395

  आगे...

कैसी आगी लगाई

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 325

एक श्रेष्ठ उपन्यास   आगे...

चलते तो अच्छा था

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 175

प्रस्तुत है पुस्तक चलते तो अच्छा था ...   आगे...

जिस लाहौर नइ देख्या ओ जम्याई नइ

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 150

जिस लाहौर नइ देख्या ओ जम्याई नइ   आगे...

टेलीविजन लेखन

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 495

  आगे...

डेमोक्रेसिया

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 250

"डेमोक्रेसिया" प्रतिष्ठित कथाकार असग़र वजाहत की विशिष्ट कहानियों का संग्रह है।   आगे...

धरा अँकुराई

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 495

कथाकार असगर वजाहत की उपन्यास-त्रयी का अन्तिम भाग 'धरा अँकुराई' एक बहुआयामी कथानक को जीवन की सच्चाइयों तक पहुँचाता है।   आगे...

पहर दोपहर

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 375

असगर वजाहत ने अपने इस उपन्यास में मायानगरी मुंबई की चमक-दमक की दुनिया को विषय बनाया है   आगे...

बरखा रचाई

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 450

प्रस्तुत उपन्यास बरखा रचाई किसी विमर्श का ठप्पा लगाए बिना ठोस जीवन से जुड़ी बहुत-सी समस्याओं को सामने लाता है।   आगे...

बाकर गंज के सैयद

असगर वजाहत

मूल्य: Rs. 195

  आगे...

 

12   16 पुस्तकें हैं|