Hindi Books on "Criticism" at Pustak.org
लोगों की राय

आलोचना

कविता के नये प्रतिमान

नामवर सिंह

मूल्य: Rs. 450

कविता के नए प्रतिमान में समकालीन हिंदी आलोचना के अंतर्गत व्याप्त मूल्यांध वातावरण का विश्लेषण करते हुए उन काव्यमूल्यों को रेखांकित करने का प्रयास किया गया है जो आज की स्थिति के लिए प्रासंगिक हैं।   आगे...

कविता के आर पार

नन्दकिशोर नवल

मूल्य: Rs. 350

इस तरह की पुस्तक हिंदी काव्य-प्रेमियों के लिए एक जरूरी पुस्तक है, जो उनकी आस्वादन क्षमता को विकसित करेगी।   आगे...

कथाकार कमलेश्वर और हिंदी सिनेमा

उज्ज्वल अग्रवाल

मूल्य: Rs. 450

प्रस्तुत शोध-प्रबंध कमलेश्वर के हिन्दी सिनेमा में विराट योगदान को रेखांकित करता है।   आगे...

कथा समय में तीन हमसफर

निर्मला जैन

मूल्य: Rs. 195

नई कहानी दौर की एक विशिष्ट कथा–त्रयी की रचनात्मकता पर एक मानक कलम से उतरी अनूठी आलोचना कृति।   आगे...

कार्ल मार्क्स: कला और साहित्य चिंतन

नामवर सिंह

मूल्य: Rs. 400

प्रस्तुत पुस्तक में संकलित लेखों को पढ़कर पाठक साहित्य और कला से संबंधित इन सभी मुद्दों से परिचित हो सकेगा।   आगे...

कामायनी एक पुनर्विचार

गजानन माधव मुक्तिबोध

मूल्य: Rs. 350

कामायनी : एक पुनर्विचार, व्यावहारिक समीक्षा के क्ष्रेत्र में एक सर्वथा नवीन विवेचन-विश्लेषण-पद्धति का प्रतिमान है।   आगे...

कल्पलता

हजारी प्रसाद द्विवेदी

मूल्य: Rs. 175

निश्चय ही द्विवेदी जी की यह कृति शास्त्र को लोक से जोड़नेवाली उनकी विदग्ध रचनात्मकता का अप्रतिम साक्ष्य है।   आगे...

जो बचा रहा

नन्द चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 400

प्रस्तुत पुस्तक संस्मरण और आलोचना के मिश्रण से बने लेखों का संग्रह है।   आगे...

जीने का उदात्त आशय

पंकज चतुर्वेदी

मूल्य: Rs. 600

लेखक ने इस पुस्तक के पहले निबंध में कुअंर नारायण के विचारों और उनकी समग्र काव्य-यात्रा से चुनी हुई कविताओं के विश्लेषण के जरिए उनकी काव्य-दृष्टि को समझने और उसका एक स्वरुप निर्मित करने की चेष्टा की है।   आगे...

जब प्रश्नचिन्ह बौखला उठे

गजानन माधव मुक्तिबोध

मूल्य: Rs. 195

इस संग्रह में ‘मुक्तिबोध रचनावली’ के प्रकाशन के बाद प्राप्त उनके राजनीतिक निबन्धों को संकलित किया गया है।   आगे...

 

 1 2 3 >  Last ›  View All >> इस संग्रह में कुल 148 पुस्तकें हैं|