सचित्र हिन्दी बाल कोश - कुसुम खेमानी Sachitra Hindi Bal Kosh - Hindi book by - Kusum Khemani
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> सचित्र हिन्दी बाल कोश

सचित्र हिन्दी बाल कोश

कुसुम खेमानी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :207
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 12459
आईएसबीएन :9788126726325

Like this Hindi book 0

प्रस्तुत कोश कई दृष्टियों से महत्त्वपूर्ण है। इसके लिए हिंदी प्रदेश में निर्धारित पाँचवें दर्जे तक की सभी पाठ्य-पुस्तकें मँगवाई गईं और उनमें से शब्दों का संग्रह करवाया गया। बारंबारता की पद्धति से तैयार की हुई शब्दावलियों को भी हस्तगत किया गया। इस प्रकार शब्दावली का एक स्तर निश्चित हुआ। इस शब्दकोश में लगभग छह हजार शब्द हैं जो प्राथमिक कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए उपयोगी और आवश्यक हैं। अर्थों का चुनाव भी इसी दृष्टि से किया गया है। सबसे बड़ी बात यह है कि प्रत्येक शब्द का प्रयोग जैसा कि शिष्ट हिंदी में होता है, अत्यंत सटीक उदाहरणों द्वारा समझाया गया है।

एक अन्यतम विशेषता यह भी है कि विद्यार्थियों के लिए इतना उपयोगी यह पहला सचित्र कोश है। अर्थ समझाने के लिए तीन अपनाए बताए गए हैं। एक तो पर्यायवाची शब्द देकर, जैसे - जल (पानी), दशा (अवस्था, हालत); दूसरे, व्याख्या या वर्णन देकर, जैसे। अरबी (सूरन जैसा एक छोटा कंद), अस्पताल (इलाज करने-कराने की जगह); और तीसरे, परिभाषा देकर, जैसे। अंकगणित (गणित की वह शाखा जिसमें अंकों का जोड़ना, घटाना, गुणा करना और भाग देना आदि अनेक क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है।) परंतु, कभी-कभी इसके बाद भी विद्यार्थी के मन में वस्तु का ठीक-ठाक ज्ञान नहीं हो पाता। समुचित ज्ञान कराने में चित्र बहुत सहायक होते हैं। हिंदी में ऐसे सचित्र कोश नहीं है। प्रस्तुत कोश इस दृष्टि से बेजोड़ है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book