जब तोप मुकबिल हो - प्रभाष जोशी Jab Top Mukabil Ho - Hindi book by - Prabhash Joshi
लोगों की राय

पत्र एवं पत्रकारिता >> जब तोप मुकबिल हो

जब तोप मुकबिल हो

प्रभाष जोशी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2008
पृष्ठ :270
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 13914
आईएसबीएन :9788126716111

Like this Hindi book 0

पुस्तक में प्रभाष जोशी के पत्रकारिता और मीडिया के दूसरे माध्यमों से सम्बन्धित लेखों के अलावा भाषा, अर्थ, जगत और महिलाओं से जुड़े लेख संकलित हैं।

‘जब तोप मुकाबिल हो’ पुस्तक में प्रभाष जोशी के पत्रकारिता और मीडिया के दूसरे माध्यमों से सम्बन्धित लेखों के अलावा भाषा, अर्थ, जगत और महिलाओं से जुड़े लेख संकलित हैं। पुस्तक की भूमिका में प्रभाष जोशी लिखते हैं : ‘जब तोप मुकाबिल हो’ तो अखबार निकालो - ऐसा अकबर इलाहाबादी ने कहा है। आज लोग तोप का मुकाबला करने को अखबार नहीं निकालते। वे पैसा और थोड़ा-बहुत पव्वा कमाने के लिए अखबार निकालते हैं। इसलिए छापने के पैसे माँगने में भी उन्हें कोई हिचक नहीं होती। अपन ऐसी पत्रकारिता करने नहीं आए थे। आजादी के बाद के दूसरे दशक में लगता था कि पत्रकारिता समाज बदलने और नया समतावादी और न्याय आधारित समाज बनाने का एक माध्यम है। आज आप ऐसी बातें करें तो लोग हँसने लगते हैं। फिर भी नरसिंह राव के कहने पर मनमोहन सिंह जब सन् इकानवे में नव उदार आर्थिक व्यवस्था लाए तब तक भारतीय पत्रकारिता में समाज परिवर्तन की वाहक बनने की इच्छा थी।

आज जो प्रवृत्तियाँ आप देख रहे और दुखी हो रहे हैं वे सब इसके बाद की है। लेकिन यहाँ जो लेख संकलित हैं, वे आज की पत्रकारिता की आलोचना में नहीं हैं। ये पत्रकारिता करने या उसे कॉलेजों में पढ़ानेवालों के लिए भी नहीं हैं। मुझे हमेशा लगता रहा कि पत्रकारिता करने और करके दिखाने की चीज़ है, उपदेश देने या सिखाने की नहीं। यह अपने काम की आत्मालोचन है और जो कर न पाए, उसका अफसोस भी। लेकिन यह पत्रकारिता को जनसम्पर्क अभियान या प्रकाशन उद्योग बना देने के विरुद्ध तो है ही। मुझे अब कोई पचास साल हो जाएँगे लेकिन कभी मुझे नहीं लगा कि पत्रकारिता बेकार का काम है। ऐसा होता तो अपने अखबार में मैं लगातार लिखता नहीं रह सकता था - न दैन्यम् न पलायनम्।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book