चिन्ताहरण जन्त्री सन् 2021 - विजय त्रिपाठी 'विजय' ChintaHaran Jantri 2021 - Hindi book by - Vijay Tripathi 'Vijay'
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> चिन्ताहरण जन्त्री सन् 2021

चिन्ताहरण जन्त्री सन् 2021

पं. विजय त्रिपाठी 'विजय'

प्रकाशक : ठाकुर प्रसाद एण्ड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2021
पृष्ठ :160
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 15624
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

उत्तर भारत की प्रसिद्ध जन्त्री या पंचांग

प्रथम पृष्ठ

    अनुक्रम

  1. नित्य प्रार्थना, प्रार्थना, नित्य कर्म के नियम
  2. सम्वत्सर 2078 का फल
  3. सम्वत्सर एवं वर्ष के दशाधिकारियों का फल
  4. आर्द्रा प्रवेश फल
  5. खाता (बसना) और श्री महालक्ष्मी पूजन मुहूर्त
  6. विंशोत्तरी, अष्टोत्तरी मतानुसार लाभ खर्च, विवरण
  7. सन् 2021 में महापात योग
  8. सन् 2021 के ग्रहण
  9. सन् 2021 ई. में मूल विचार
  10. अग्निवास कहाँ शुभ होता है, अग्निवास सारिणी
  11. आत्मकारकादि ग्रह विवेचना, आत्मकारक कुण्डली
  12. सन् 2021 ई. में पंचक विचार
  13. सन् 2021 ई. के मुख्य व्रत, संक्रान्ति आदि
  14. नक्षत्रों की संज्ञा और उनके कर्म
  15. सन् 2021 में ग्रहों के उदयास्त एवं वक्र-मार्गत्व
  16. राशि शील चक्र
  17. कुण्डली के कुछ विशिष्ट योगों का फल
  18. बारह मास का पंचांग, भविष्यवाणी, व्रत-त्योहार, जयन्ती, लग्न सारिणी
  19. यात्रा मुहूर्त विचार
  20. गोरखपतरा (यात्रा मुहूर्त)
  21. चौघड़िया मुहूर्त
  22. सर्व कार्य सिद्धि हेतु होरा मुहूर्त
  23. भावी ज्ञान का सरल उपाय, गुप्त विद्या प्रकाश
  24. बारह राशियों का मासिक फलादेश (मेष से मीन राशि तक) सन् 2021 ई०
  25. ज्योतिष का वरदान-1
  26. किस कार्य में किस ग्रह का बल देखना चाहिए
  27. सामान्य रूप से सब कार्यों में लग्न शुद्धि
  28. अथ नक्षत्र मुहूर्त बोथक चक्र
  29. स्त्री पुरुष के अंगों पर छिपकली गिरने तथा गिरगिट चढ़ने का फल
  30. ज्योतिष का वरदान-2
  31. वार परत्वेन तेजी मन्दी ज्ञान
  32. खोई हुई या चोरी गयी वस्तुओं का विचार
  33. स्वप्न फल विचार
  34. गृह भूमि शोधन एवं वास्तु विचार
  35. ग्रह शान्त्यर्थ रत्नादि धारण, विशेष सूचना, कालसर्पादि
  36. ग्रहाधीन व्यापारिक वस्तुएँ और उनकी तेजी मन्दी जानने की सरल पद्धति
  37. जहाँ यंत्र हो बीसा
  38. वर्ण (अक्षरों) का प्रभाव
  39. बीजाक्षरों का संक्षिप्त कोष
  40. सन् 2021 ई. में शेयर मार्केट को प्रभावित करने वाले ग्रह
  41. वायदा और हाजिर बाजार
  42. ज्योतिष की दृष्टि में सन् 2021 का व्यापार चक्र
  43. सन् 2021 में शनि का गोचर फल
  44. सन् 2021 में गुरु का गोचर फल
  45. सन् 2021 में राहु-केतु का गोचर फल
  46. आवश्यक सूचना
  47. शरीर के लक्षणों पर से लग्न चन्द्र और ग्रहों की परीक्षा
  48. काशी, कोलकाता, पटना का चन्द्रोदय-चन्द्रास्त
  49. चन्द्रमा की दैनिक गति से उसका परलम्बन एवं बिम्बार्थ ज्ञात करने की सारिणी
  50. देशकाल सुबोधिनी तालिका-1
  51. संकेताक्षरों की संज्ञा
  52. देशकाल सुबोधिनी तालिका-2
  53. लग्न परिवर्तन तालिका
  54. विंशोत्तरी महादशा सारिणी
  55. सम्मुख शुक्र विचार
  56. विवाह सम्बन्धी धर्मशास्त्रीय विचार, त्रिबल शुद्धि
  57. वर-कन्या गुण मेलापक सारिणी देखने की रीति
  58. अवकहड़ा चक्र
  59. कुण्डली में मंगल आदि विचार, नाड़ी दोष ज्ञानार्थ चक्र
  60. सन् 2021 में उपनयन मुहूर्त
  61. विवाहादि में पंच शलाका, सप्त शलाका ज्ञान
  62. विवाहादि शुभ कार्य सम्पादनार्थ समय शुद्धि
  63. वर कन्या गुण मेलापक चक्र
  64. सन् 2021 ई. के शुद्ध विवाह मुहूर्त
  65. सन् 2021 ई. के कात्यायनोक्त नक्षत्र चतुष्टयी के विवाह मुहूर्त
  66. देशाचार से पंजाब, द्विगत देशों के लिये विवाह मुहूर्त
  67. सन् 2021 ई. के विवाह मुहूर्त आवश्यक में
  68. सन् 2021 ई. के कात्यायनोक्त नक्षत्र चतुष्टयी के विवाह मुहूर्त आवश्यक में
  69. छींक विचार, बालकों की दन्तोत्पत्ति का फल
  70. सन् 2021 ई. के विविध मुहूर्त
  71. सन् 2021 में सर्वार्थ सिद्धि योग
  72. सन् 2021 में अमृत सिद्धि योग, यायिजय योग
  73. सन् 2021 में स्थायीजय, पुष्य, द्विपुष्कर, त्रिपुष्कर, दुर्लभ सन्थिकर, शुक्र पुष्य उत्पात योगादि
  74. यायिजय योग एवं स्थायोजय योग का महत्व
  75. सन् 2021 में सर्वार्थ सिद्धि योग
  76. राहु काल, यमगण्ड काल
  77. कौआ स्पर्श विचार
  78. सन् 2021 में रवि योग
  79. गृह निर्माण और वास्तु शास्त्र
  80. लक्ष्मी प्राप्ति, भाग्योदय, मनोवांछित फल प्राप्ति के लिए
  81. दीपावली व नवरात्रि पर विशेष प्रकार से निर्मित कवच
  82. दुर्भाग्य नाश के उपाय और उन्नति के साधन
  83. चिन्ताहरण, धनदाता, भाग्योदय कवच

विनामूल्य पूर्वावलोकन

Prev
Next
Prev
Next

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book