Armeniayi Jansanhar : Ottoman Samrajya Ka Kalank - Hindi book by - Suman Keshari - आर्मेनियाई जनसंहार : ऑटोमन साम्राज्य का कलंक - सुमन केशरी
लोगों की राय

ऐतिहासिक >> आर्मेनियाई जनसंहार : ऑटोमन साम्राज्य का कलंक

आर्मेनियाई जनसंहार : ऑटोमन साम्राज्य का कलंक

सुमन केशरी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2021
पृष्ठ :352
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 16120
आईएसबीएन :9789390971367

Like this Hindi book 0

5 पाठक हैं

2015 में आर्मेनियाई जनसंहार को सौ वर्ष हो गए, हममें से कितनों को इसके बारे में पता है ? जबकि सच्चाई यह है कि आर्मेनियाई जनसंहार निर्विवाद रूप से बीसवीं सदी का पहला जनसंहार था ! सच तो यह भी है कि भारत में बहुत से लोग आर्मेनिया नामक देश से भी परिचित नहीं हैं। किन्तु उन्नीसवीं सदी के अन्तिम दशक से लेकर बीसवीं सदी के तीसरे दशक तक निरन्तर सुनियोजित तरीक़े से ऑटोमन साम्राज्य द्वारा आर्मेनियाई मूल के लोगों के संहार को जानना आज इसलिए भी ज़रूरी है क्योंकि आज भी राज्यसत्ताएँ अपनी शक्ति बरकरार रखने के लिए जिन उपायों का प्रयोग करती हैं, उनमें से प्रमुख है अपने देश के किसी भी प्रकार के अल्पसंख्यकों को सारी परेशानियों की जड़ बताकर उनको प्रताड़ित करना। प्रथम विश्वयुद्ध के पहले ऑटोमन साम्राज्य में लगभग 20 लाख आर्मेनियाई रहते थे और उनमें से क़रीब 15 लाख आर्मेनियाई सन् 1915-1923 के बीच मार डाले गए और शेष का बलात् धर्मान्तरण या विस्‍थापन कर दिया गया। तुर्की ने आज तक इस जनसंहार को स्वीकार नहीं किया है।

दरअसल ज़रूरत इस बात की है कि इस जनसंहार की घटना को व्यापक रूप से स्वीकार किया जाए, ताकि आनेवाली पीढ़ियाँ सुलह के रास्ते ढूँढ़ सकें और विश्व-भर के लोग जनसंहार की पनप रहीं स्थितियों के प्रति सचेत हो जाएँ। इस पुस्तक का उद्देश्य यही है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book