Do Ekant - Hindi book by - SriNaresh Mehta - दो एकान्त - श्रीनरेश मेहता
लोगों की राय

परिवर्तन >> दो एकान्त

दो एकान्त

श्रीनरेश मेहता

प्रकाशक : सरल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2009
पृष्ठ :163
मुखपृष्ठ :
पुस्तक क्रमांक : 7616
आईएसबीएन :0

Like this Hindi book 10 पाठकों को प्रिय

96 पाठक हैं

आधुनिक तनाव वाली घटना-हीन वास्तविकता को अत्यन्त सूक्ष्म शैली से प्रस्तुत किया गया है....

Do Ekant

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश


आधुनिकता सामाजिक ढाँचा ही नहीं है बल्कि हमारी व्यक्तिगत मानसिक स्थिति और स्वत्व बन गयी है। इसका नतीजा यह हुआ है कि प्रेम जैसी निजी अनुभूति पर भी इसका तनाव अनुभव होता है। इसलिए कभी-कभी जो आजीवन प्रेम के स्थान पर हम प्रेम के तनाव में ही रहते होते हैं।
इस उपन्यास में वानीरा और विवेक के माध्यम से इस आधुनिक तनाव वाली घटना-हीन वास्तविकता को अत्यन्त सूक्ष्म शैली, चित्रों और मन: स्थितियों के द्वारा श्रीनरेश मेहता ने प्रस्तुत किया है।



प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book