Madarsa - Hindi book by - Manzoor Ehtesham - मदरसा - मंजूर एहतेशाम
लोगों की राय

उपन्यास >> मदरसा

मदरसा

मंजूर एहतेशाम

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2011
पृष्ठ :295
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 8035
आईएसबीएन :9788126719815

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

179 पाठक हैं

देश और काल के विभिन्न चरणों में आवाजाही करता हुआ एक उपन्यास

Madarsa by Manzoor Ehtesham

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

देश और काल के विभिन्न चरणों में आवाजाही करता हुआ यह उपन्यास स्मृतियों की पगडंडियों पर जैसे चहलकदमी करते हुए अपने पात्रों के भीतरी और बाहरी बदलावों की प्रक्रिया से गुजरता है। और सौ लफड़ों के बीच यह दुनिया चलती रहती है। साबिर को उसके अलीगढ़ मामू तरह-तरह से, अलग-अलग मौकों पर, समझाने की कोशिश कर चुके थे कि तुम्हारी जिन्दगी एक अनोखा सफर है। उसका रास्ता और मंजिल सब अनोखे हैं। इस अनोखेपन को समझोगे तो खुद को जान पाओगे, बाकी सब जो पढ़ा लिखा डिस्कस किया जाता है, ट्रैफिक के कानून की तरह है जिसका जानना हर सवारी के लिए जरूरी है, लेकिन इसका सफर की असलियत से कुछ भी लेना-देना नहीं है। दुर्भाग्य से हालात ऐसे बदलते गए कि साबिर सफर की असलियत के बजाय, ट्रैफिक के कानूनों में ही उलझ कर रह गया था। साबिर की जिन्दगी का चालीस पूरा होने में कुछ ही महीने बाकी है लेकिन जिन्दगी चालीस पर ठहर तो नहीं जाती। कभी-कभी तो शुरु होती है। ऐसा ही शायद शाबिर के साथ भी हो, इसी आशावादिता के साथ यह उपन्यास समाप्त होता है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book