नौवाँ गीत - रबीन्द्रनाथ टैगोर Nauva Geet - Hindi book by - Rabindranath Tagore
लोगों की राय

नई पुस्तकें >> नौवाँ गीत

नौवाँ गीत

रबीन्द्रनाथ टैगोर

प्रकाशक : राजपाल एंड सन्स प्रकाशित वर्ष : 2014
पृष्ठ :96
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 9663
आईएसबीएन :9789350642184

Like this Hindi book 8 पाठकों को प्रिय

107 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

1913 में रवीन्द्रनाथ टैगोर को जब साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया तो वे एशिया और भारत के पहले नोबेल पुरस्कार विजेता थे। बहुआयामी व्यक्तित्व वाले रवीन्द्रनाथ टैगोर साहित्यकार, चित्रकार, चिंतक और दार्शनिक थे। उन्होंने छोटी उम्र में ही कविता लिखना शुरू किया और सोलह वर्ष की उम्र में उनका पहला कविता-संग्रह प्रकाशित हुआ। उपन्यास, कहानी, गीत, नृत्य-नाटिका, निबंध, यात्रा-वृत्तांत - सभी विधाओं में उन्होंने अपनी लेखनी से समृद्ध किया। भारत और बांग्लादेश, दोनों ही देशों में राष्ट्रगान इनके लिखे हुए हैं। अपने जीवन काल में इन्होंने विश्वभारती विद्यालय और शांति निकेतन विश्वविद्यालय की स्थापना की जो आज भी प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ जीवन-मूल्य प्रदान करता है।

इस पुस्तक में हिन्दी के जाने-माने लेखक सुरेश सलिल का टैगोर की कुछ श्रेष्ठ कविताओं का हिंदी में अनुवाद प्रस्तुत है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book