जड़िया बाई (सजिल्द) - कुसुम खेमानी Jadia Bai (Hard) - Hindi book by - Kusum Khemani
लोगों की राय

उपन्यास >> जड़िया बाई (सजिल्द)

जड़िया बाई (सजिल्द)

कुसुम खेमानी

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन प्रकाशित वर्ष : 2016
पृष्ठ :168
मुखपृष्ठ : सजिल्द
पुस्तक क्रमांक : 9750
आईएसबीएन :9788126729357

Like this Hindi book 9 पाठकों को प्रिय

283 पाठक हैं

प्रस्तुत हैं पुस्तक के कुछ अंश

कुसुम खेमानी के नारी-विमर्श की प्रकृति एकदम भिन्न है। वे अपने स्त्री-चरित्रों का ऐसा उदात्तीकरण करती हैं कि इस धरती की होते हुए भी वे अपने अनोखे व्यक्तित्व के कारण किसी और ही जगत की लगती हैं।

जडिय़ाबाई उपन्यास भी एक ऐसी ही मारवाड़ी स्त्री के उत्कर्ष की गाथा है, जो धनाढ्य परिवार की होने के बावजूद धुर बचपन से ही प्राणी मात्र के लिए संवेदनशील और करुणामयी हैं एवं खरे जीवन मूल्यों में जीती हुई आश्चर्यजनक ढंग से वह शुरू से ही गांधीजी की ट्रस्टीशिप सिद्धान्त का घोर अनुयायी बन जाती हैं। जडिय़ाबाई कथनी में ही नहीं करनी में भी पंचशील के पाँचों सिद्धान्तों का अनुशीलन करती हैं। वे सर्वे भवन्तु सुखिनः के लिए अपना ‘तन-मन-धन’ सब कुछ अर्पित कर देती हैं।

जडिय़ाबाई अपने ज़मीनी सद्कर्मों के स्तूपाकार से वह ऊँचाई हासिल कर लेती हैं, जो उन्हें इस धरती पर ही अलौकिक बना देती हैं। आश्चर्यजनक ढंग से जडिय़ाबाई पूर्णतः गल्प के धरातल पर खड़ी होकर ऐसी काव्यात्मक गुणों की ऊँचाइयों पर परचम फहराती नज़र आती हैं, जो कल्पनातीत है। वे संवेदनशीलता से इतनी सराबोर हैं कि छोटे-से-छोटे कीड़े की कर्मठता और अवदान के प्रति भी कृतज्ञता ज्ञापित करती हैं।

जडिय़ाबाई का आचार-व्यवहार समग्र प्रकृति के अणु-अणु के प्रति श्रद्धापूर्ण है। वे पृथ्वी की प्रकृति और इसके वासियों में ही उस अलौकिक दिव्य सत्ता को अनुभूत करती रहती हैं और उन्हीं के समक्ष श्रद्धावनत रहती हैं। वे उस असमी को मन्दिर, मस्जिद और शिवालों में नहीं ढूँढ़ती, बल्कि यहाँ की माटी के कण-कण में उन्हें उसकी उपस्थिति महसूस होती रहती है।

प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book