Nagarjun/नागार्जुन
लोगों की राय

लेखक:

नागार्जुन

जन्म : सन् 1911 में ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन।

जन्मस्थान : ग्राम तरौनी, जिला दरभंगा (बिहार)। परंपरागत प्राचीन पद्धति से संस्कृत की शिक्षा।

सुविख्यात प्रगतिशील कवि-कथाकार। हिंदी, मैथिली, संस्कृत और बांग्ला में काव्य-रचना। पूरा नाम वैद्यनाथ मिश्र यात्री। मातृभाषा मैथिली मेंयात्रीनाम से ही लेखन। शिक्षा-समाप्ति के बाद घुमक्कड़ी का निर्णय। गृहस्थ होकर भी रमते-राम। स्वभाव से आवेगशील, जीवंत और फक्कड़। राजनीति और जनता के मुक्तिसंघर्षों में सक्रिय और रचनात्मक हिस्सेदारी। मैथिली काव्य-संग्रह पत्रहीन नग्न गाछके लिए साहित्य अकादेमी पुरस्कार। उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान तथा मध्य प्रदेश और बिहार के शिखर सम्मान सहित कई पुरस्कारों से सम्मानित।

प्रमुख प्रकाशित पुस्तकें : रतिनाथ की चाची, बाबा बटेसरनाथ, दुखमोचन, बलचनमा, वरुण के बेटे, नई पौध आदि (उपन्यास); युगधारा, सतरंगे पंखोंवाली, प्यासी पथराई आँखें, तालाब की मछलियाँ, चंदना, खिचड़ी विप्लव देखा हमने, तुमने कहा था, पुरानी जूतियों का कोरस, हजार-हजार बाँहोंवाली, पका है यह कटहल, अपने खेत में, मैं मिलिटरी का बूढ़ा घोड़ा (कविता-संग्रह); भस्मांकुर, भूमिजा (खंडकाव्य); चित्रा, पत्रहीन नग्न गाछ (हिंदी में भी अनूदित मैथिली कविता-संग्रह); पारो (मैथिली उपन्यास); धर्मलोक शतकम् (संस्कृत काव्य) तथा संस्कृत से कुछ अनूदित कृतियाँ।

अनोखा टापू

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 30

अनोखा टापू   आगे...

अपने खेत में

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 175

नागार्जुन का कविता-संग्रह....

  आगे...

अभिनन्दन

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

सामाजिक-साहित्यिक-राजनीतिक विडम्बना भरी जिन्दगी पर एकदम अछूता और करारा व्यंग्य....   आगे...

आखिर ऐसा क्या कह दिया मैंने

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 200

नागार्जुन के इस नये कविता संग्रह में प्रकृति का अनूठा चित्रण दिया गया है

  आगे...

इस गुब्बारे की छाया में

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 200

यहाँ जो भी रचनाएँ संकलित हैं वे पहले अन्य किसी संग्रह में प्रकाशित नहीं की गयी हैं।

  आगे...

उग्रतारा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 125

इसमें एक नारी के प्रेम, बेबसी, विशाल-हृदयता और उसके अकुंठ जीवन-संघर्ष का मर्मस्पर्शी चित्रण हुआ है।

  आगे...

कथा मंजरी - 2 भागों में

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 60

कथा मंजरी मनोरंजक, रोचक बाल कहानियाँ   आगे...

कुम्भीपाक

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 95

मध्यवर्गीय जिन्दगी के नरक पर आधारित पुस्तक...   आगे...

कुम्भीपाक

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

कुम्भीपाक नामक नरक की रचना जिन जीवन-स्थितियों से हुई होगी, नागार्जुन का यह उपन्यास उन्हीं के शब्दांकन का परिणाम है।

  आगे...

गरीबदास

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 95

गरीबदास   आगे...

तुमने कहा था

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

तुमने कहा था   आगे...

नई पौध

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 175

नागार्जुन का यह उपन्यास, आकार में लघु होने पर भी, प्रभाव के लिहाज से बड़ा ही व्यापक साबित हुआ है

  आगे...

नागार्जुन रचनावली : खंड 1-7

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 5500

रचनावली के प्रथम खंड में बाबा की उन सभी कविताओं को संकलित किया गया है, जिनका रचनाकाल 1967 ई– तक है।

  आगे...

पका है यह कटहल

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 350

पका है यह कटहल बाबा नागार्जुन की मैथिली भाषा में लिखी गई कविताओं का पठनीय संकलन है

  आगे...

पुरानी जूतियों का कोरस

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 200

प्रस्तुत है नागार्जुन की कविताओं का संकलन...

  आगे...

प्रतिनिधि कविताएं : नागार्जुन

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 75

उनकी कविताएँ लोक-संस्कृति के इतना नजदीक हैं कि उसी का एक विकसित रूप मालूम होती हैं।

  आगे...

बलचनमा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 95

गरीब जीवन की त्रासदी पर आधारित उपन्यास...   आगे...

बलचनमा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

बलचनमा प्रख्यात कवि और कथाकार नागार्जुन की एक सशक्त कथा-कृति और हिन्दी का पहला आंचलिक उपन्यास...   आगे...

बलचनमा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 125

बलचनमा’ की गणना हिंदी के कालजयी उपन्यासों में की जाती है।

  आगे...

बाबा बटेसरनाथ

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 350

बाबा बटेसरनाथ... Novels

  आगे...

भूमिजा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 75

वरिष्ठ कवि नागार्जुन ने प्राचीन कथा-प्रसंगों को आधुनिक सन्दर्भों में बड़े ही मार्मिक ढंग से प्रस्तुत किया है

  आगे...

भूल जाओ पुराने सपने

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 65

इस कविता संग्रह की सबसे खास बात यह है कि इसकी एक भी कविता किसी से नकल अथवा किसी से मिलती-जुलती नहीं है...   आगे...

मर्यादा पुरुषोत्तम

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 225

मर्यादा पुरुषोत्तम....

  आगे...

मैं मिलिट्री का बूढ़ा घोड़ा

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 200

नागार्जुन की बंगला कविताओं का देवनागरी रूप और हिन्दी अनुवाद साथ-साथ दिये जा रहे हैं।

  आगे...

रतिनाथ की चाची

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 60

भारतीय गाँवों की शोषण भरी जिन्दगी का दस्तावेज....

  आगे...

रतिनाथ की चाची

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

हिंदी उपन्यास में लोकोन्मुखी रचनाशीलता की जिस परंपरा की शुरुआत प्रेमचंद ने की थी, उसे पुष्ट करनेवालों में नागार्जुन अग्रणी हैं।

  आगे...

रत्नगर्भ

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

इस पुस्तक में लेखक ने ऐतिहासिक कविताओं का वर्णन किया है...

  आगे...

वरुण के बेटे

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 75

सुविख्यात प्रगतिशील कवि-कथाकार नागार्जुन का बहुचर्चित उपन्यास ...

  आगे...

विद्यापति की कहानियाँ

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 100

महाकवि विद्यापति की तेरह नीतिपूर्ण कथाएँ....

  आगे...

सतरंगे पंखोंवाली

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 60

कविता संग्रह....   आगे...

सयानी कोयल

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 30

सयानी कोयल   आगे...

हीरक जयन्ती

नागार्जुन

मूल्य: Rs. 150

कविवर मृगांक ने सोचा—बारह पाँचे साठ सौ रुपये। कम नहीं होते हैं साठ सौ रुपये। सालभर में इतनी रकम तो दस उपन्यास भी नहीं खींच सकते !   आगे...

 

   32 पुस्तकें हैं|