Shanti Jain/शान्ति जैन
लोगों की राय

लेखक:

शान्ति जैन

शान्ति जैन

जन्म : 4 जुलाई, 1946।

शिक्षा : एम०ए० (संस्कृत, हिन्दी), पी-एच०डी०, डी० लिट्‌, संगीत प्रभाकर।

पुरस्कार एवं सम्मान : (1) सन्‌ 2006 में 'लोकगीतों के सन्दर्भ और आयाम' पुस्तक के लिए के०के० बिड़ला फाउण्डेशन का ‘राष्ट्रीय शंकर सम्मान', (2) सन्‌ 2008 में मध्य प्रदेश सरकार द्वारा लोकसंगीत के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए राष्ट्रीय देवी अहल्या सम्मान, (3) सन्‌ 2009 में लोकसंगीत विधा में राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल द्वारा संगीत नाटक अकादमी सम्मान, (4) सन्‌ 2008 में बिहार कलाकार सम्मान (कला, संस्कृति विभाग, बिहार), (5) सन्‌ 1983 में ‘चैती’ पुस्तक पर राजभाषा पुरस्कार, (6) सन्‌ 2009 से 2011 तक 'लोकसाहित्य में राष्ट्रीय चेतना’ परियोजना के लिए भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय द्वारा नेशनल सीनियर फेलोशिप, (7) 'व्यथा' संगीत रूपक लेखन के लिए सन्‌ 1999 में आकाशवाणी का राष्ट्रीय पुरस्कार।

अन्य उपलब्धियाँ : (1) पिछले 46 वर्षों से आकाशवाणी दूरदर्शन की स्वीकृत गीतकार, कलाकार, कवयित्री। (2) ‘बिहार गौरव गान’ की राष्ट्रीय, अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर 1500 से अधिक प्रस्तुतियाँ, (3) कुछ कैसेट एवं ग्रामोफोन रेकॉर्ड।

प्रकाशित कृतियाँ : पांच कविता एवं गीत, दो प्रबन्ध काव्य, एक भोजपुरी गीत संग्रह, लोक-साहित्य, संगीत विषयक नौ पुस्तकें, चार संस्कृत साहित्य सम्बन्धी पुस्तकें, एक डायरी संस्मर।

प्रकाशनाधीन : चार लोक-साहित्य विषयक पुस्तकें, एक संस्कृत-साहित्य, एक गीत-संग्रह।

अध्यापन : अवकाशप्राप्त, प्रोफेसर एवं पूर्व विभागाध्यक्ष, जैन कॉलेज, आरा।

निधन - 2 मई. 2021।

कजरी

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 300

  आगे...

चैती

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 120

शास्त्रीय संगीत और लोक-संगीत का संक्षिप्त परिचय

  आगे...

तुतली बोली के गीत

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 250

  आगे...

लोकगीतों के संदर्भ और आयाम

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 900

लोक जीवन तथा लोक संस्कृति पर आधारित लोकगीतों के विविध आयामों का अध्ययन...

  आगे...

लोकगीतों में प्रकृति

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 450

मानव जीवन पर प्रकृति का गहरा प्रभाव पड़ता है। भारतीय संस्कृति में प्रकृति को देवता तथा धरती और नदियों को माता की संज्ञा दी गई है। प्रस्तुत लोकगीतों में जन-जीवन का प्रकृति से अभिन्न संबंध अत्यंत सजीव और सुहावना है।

  आगे...

लोकसाहित्य में राष्ट्रीय चेतना

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 600

लोकगीतों में राष्ट्रीय चेतना विविध रूपों में चित्रित है। कहीं तिरंगे झंडे की लहर है, कहीं चरखे का स्वर है, कहीं मातृभूमि की महिमा का गुणगान है, तो कहीं देश पर मर-मिटने का अरमान है।

  आगे...

व्रत-त्योहार कोश

शान्ति जैन

मूल्य: Rs. 500

  आगे...

 

   7 पुस्तकें हैं|