लोगों की राय

लेखक:

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

जन्म : 27.8.1941, लाहौर, अविभाजित भारत
शिक्षा : एम.ए, पीएच.डी. हिंदी
कार्य-व्यवसाय :
भारत में सरकारी कालेज में अध्यापन कार्य, अमरीका में टी वी व रेडियो में कार्य
संतान : एक पुत्री व दो पुत्र
अमरीका प्रवास का समय :
1982 से अब तक रचनाएं प्रकाशित व उनकी विधाएं।
कविता संग्रह :
बराह, शिखंडी युग, यह युग रावण का, मुझे बुद्ध नहीं बनना, चर्चित कविताएं जैसे गुल्लक, लाली, ईश्वर, दंभ, बर्फ, तुम्हारा घर, जीवन, बुत , अनंत, धर्म, चलचित्र आदि।
उपन्यास :
रेत के घर, जलाक, अब के बिछुड़े - पत्र शैली में, सूरज नहीं उगेगा, न भेज्यो परदेस, पारो-उत्तरकथा
कहानी संकलन :
उत्तरायण, चर्चित कहानियां - आर न पार, अखबारवाला, सरहदें, मृगतृष्णा, धूप आदि, हाइकु - कुछ हाइकु
पुरस्कार :
महादेवी पुरस्कार, हिंदी परिषद , टोरंटो
महानता पुरस्कार, फेडरेशन आफ इंडिया, ओह्यो, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
गवर्नेस मीडिया पुरस्कार, ओह्यो, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
संपर्क :
सुदर्शन प्रियदर्शिनी,
246, स्ट्रैंड फर्ड ड्राइव, ब्राड व्यू हाइट्स,
ओह्यो, संयुक्त राष्ट्र अमरीका
दूरभाष : +1 4407171699

अंग संग

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 100

  आगे...

अब के बिछुड़े

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 350

  आगे...

उत्तरायण

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 200

सुदर्शन प्रियदर्शिनी की 12 रोचक कहानियों का संग्रह...   आगे...

काँच के टुकड़े

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 450

सुदर्शन प्रियदर्शिनी की इक्कीस कहानियाँ

  आगे...

जलाक

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 180

भारत और पश्चिमी संस्कृतियों के अन्तर्द्वन्द्व के विस्फोट को उजागर करता प्रवासी भारतीय लेखिका सुदर्शन प्रियदर्शिनी का एक श्रेष्ठ उपन्यास...

  आगे...

जलाक

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 300

सुदर्शन प्रियदर्शिनी के उपन्यास का द्वितीय संस्करण

  आगे...

न भेज्यो विदेस

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 200

प्रवासी लेखिका सुदर्शन प्रियदर्शिनी की नवीनतम औपन्यासिक कृति   आगे...

पारो - उत्तरकथा

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 450

देवदास की कहानी में सभी जानते हैं कि क्या हुआ? परंतु उसके आगे क्या हुआ कभी-कभी यह जानने की इच्छा भी होती है...   आगे...

पारो का अथ और इति

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 400

पारो उत्तरकथा पर सबीक्षकों की प्रतिक्रियायें

  आगे...

बरहा

सुदर्शन प्रियदर्शिनी

मूल्य: Rs. 200

जीवन की विसंगतियों को उजागर करती संवेदनशील कविताएँ...

  आगे...

 

12   15 पुस्तकें हैं|