अपरोक्षानुभूति - स्वामी चिन्मयानंद Aparokshanubhuti - Hindi book by - Swami Chinmayanand
लोगों की राय

चिन्मय मिशन साहित्य >> अपरोक्षानुभूति

अपरोक्षानुभूति

स्वामी चिन्मयानंद

प्रकाशक : सेन्ट्रल चिन्मय मिशन ट्रस्ट प्रकाशित वर्ष : 2003
पृष्ठ :127
मुखपृष्ठ : पेपरबैक
पुस्तक क्रमांक : 1760
आईएसबीएन :00000

Like this Hindi book 5 पाठकों को प्रिय

428 पाठक हैं

आत्मा,परमात्मा या ब्रह्म का साक्षात् अपरोक्ष ज्ञान ही अपरोक्षानुभूति है। इस ग्रन्थ में इसी अवस्था को प्राप्त करने की विधि और उसमें सतत् स्थिर रहने का विधान बताया गया है।

A PHP Error was encountered

Severity: Notice

Message: Undefined offset: 1

Filename: books/book_info.php

Line Number: 541

...पीछे |

<< पिछला पृष्ठ प्रथम पृष्ठ

अन्य पुस्तकें

लोगों की राय

No reviews for this book