List of Hindi Books on Feminism at Pustak.org - पुस्तक.आर्ग में स्त्री विमर्श की हिन्दी पुस्तकों का संकलन
लोगों की राय

उपन्यास >> नारी विमर्श

जहाँ औरतें गढ़ी जाती है

मृणाल पाण्डे

मूल्य: Rs. 175

प्रस्तुत है नारीवाद आन्दोलन की विडम्बना....   आगे...

परदेसिया

बुद्धदेव गुहा

मूल्य: Rs. 125

बंगाली समाज के स्वभाव व चरित्र का सच्चा और प्रामाणिक उपन्यास...   आगे...

टेढ़ी लकीर

इस्मत चुगताई

मूल्य: Rs. 395

इस्मत चुग़ताई के उर्दू उपन्यास टेढ़ी लकीर का लिप्यन्तरण

  आगे...

सूरजमुखी अँधेरे के

कृष्णा सोबती

मूल्य: Rs. 150

डार से बिछुड़ी और यारों के यार से अलग और आगे इस उपन्यास में कृष्णा सोबती ने गहन संवेदना के स्तर पर कलाकार की तीसरी आँख से पर्त-दर-पर्त तन-मन की साँवली प्यास को उकेरा है...

  आगे...

प्रतीक्षिता

सुषमा अग्रवाल

मूल्य: Rs. 200

एक माँ की आशाओं, आकांक्षाओं, कल्पनाओं तथा स्वप्नों की गाथा......   आगे...

कदाचित्

भिक्खु

मूल्य: Rs. 200

स्त्री जीवन के समग्र पक्ष को उकेरती एक अन्यतम कृति ‘कदाचित्’...   आगे...

कभी पास कभी दूर

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 150

एक मर्मस्पर्शी उपन्यास....   आगे...

अनोखा प्रेम

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 400

जीवन की कठोर वास्तविकता को यह कथा जितने खुले रूप में दर्शन कराती है, उसे पढ़कर पाठक का मन जीवन की कड़वी सच्चाई का सच्चा अनुभव करता है।

  आगे...

बनिया बहू

महाश्वेता देवी

मूल्य: Rs. 250

बनिया-बहू की कथा 16 वीं शताब्दी के एक आख्यान पर आधारित है, जिसे तत्कालीन कवि मुकुंदराम चक्रवर्ती ने अपनी कृति ‘चंडीमंगल’ में लिपि बद्ध किया था।   आगे...

सुवर्णलता

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 350

भारतीय नारी का एक शताब्दी का इतिहास अपने विकास क्रम में...   आगे...

प्रथम प्रतिश्रुति

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 275

बंगाल के ग्राम्य जीवन और परंपराओं तथा संस्कारों के मर्मस्पर्शी चित्रों से भरपूर उपन्यास   आगे...

तिरोहित

गीतांजलि श्री

मूल्य: Rs. 199

इसमें स्त्रियों के घरेलू जीवन की अनुभूतियों,रोजमर्रा के स्वाद,स्पर्श,महक,दृश्य को बड़ी बारीकी से उकेरा गया है.....

  आगे...

शेष कादम्बरी

अलका सरावगी

मूल्य: Rs. 400

एक भिन्न स्तर पर रूबी गुप्ता के अपने जीवन की कादम्बरी ढूँढने की प्रचेष्ठा होने के कारण शेष कादम्बरी एक ऐसी औपन्यासिक कृति है जिसमें जीवन और उपन्यास आपस में गड्ड-मड्ड हो जाते हैं। कादम्बरी शायद अपने खिलन्दड़ अन्दाज में नानी की कहानी के बारे में कह सकती है कि वह जीवन ही क्या, जिसमें उपन्यास न हो और वह उपन्यास क्या, जिसमें जीवन न हो।

  आगे...

शादी से पेशतर

शर्मिला बोहरा

मूल्य: Rs. 125

कोलाज़नुमा लघु उपन्यास जिसमें लेखिका बिना किसी लेखकीय टिप्पणी और गुरुगम्भीरता के शादी का इन्तज़ार करती हुई लड़कियों से हमारी मुलाकात करवाती है   आगे...

अप्सरा

सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला

मूल्य: Rs. 450

धरती पर उतरती अप्सरा-सी सुन्दर और कला-प्रेम में डूबी एक वीरांगना की यह कथा हमारे ह्रदय पर अमिट प्रभाव छोड़ती है। अपने व्यवसाय से उदासीन होकर वह अपना ह्रदय एक कलाकार को दे डालती है और नाना दुष्चक्रों का सामना करती हुई अन्ततः अपनी पावनता को बनाए रख पाने में समर्थ होती है।

  आगे...

आकाश पक्षी

अमरकान्त

मूल्य: Rs. 150

एक निर्दोष और संवेदनशील लडकी पर आधारित उपन्यास जो सामन्तवाद के अवशेषों के तले दबी हुई है.....

  आगे...

त्याग का भोग

इलाचन्द्र जोशी

मूल्य: Rs. 200

इसमें एक अनाथ लड़की के जीवन पर प्रकाश डाला गया है...   आगे...

अनबीता व्यतीत

कमलेश्वर

मूल्य: Rs. 200

इसमें 1947 के बाद सामन्ती युग का पतन,पर्यावरण पक्षियों से प्रेम तथा सहज मानवीय कोमल सम्बन्धों का वर्णन किया गया है...

  आगे...

दीवारों से पार आकाश

कुन्दनिका कपाडिया

मूल्य: Rs. 200

पुरुषप्रधान समाज में स्त्रियों पर सदियों से प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष अन्याय होते रहे है,उसके सैकड़ों रूप इस कहानी में उजागर हुए है.....

  आगे...

अगनपाखी

मैत्रेयी पुष्पा

मूल्य: Rs. 325

इदन्नमम, चाक, अल्मा कबूतरी, झूला नट के बाद यह कथा मैत्रेयी पुष्पा के औपन्यासिक यात्रा का एक जबर्दस्त मोड़...

  आगे...

सुरजू के नाम

जयवन्ती डिमरी

मूल्य: Rs. 65

प्रस्तुत है पहाड़ी अंचल में बसने वाले मजदूरों पर आधारित उपन्यास...   आगे...

अग्निगर्भा

अमृतलाल नागर

मूल्य: Rs. 200

नागर जी की रोचक शैली और चुटीली भाषा का एक और उपन्यास ‘अगिनगर्भा’...

  आगे...

महाश्वेता

सुधा मूर्ति

मूल्य: Rs. 175

प्रस्तुत है महाश्वेता...   आगे...

बीच की रेत

विश्वनाथ प्रसाद

मूल्य: Rs. 200

प्रस्तुत है बीच की रेत...   आगे...

सुंदरी

सोनी केदार

मूल्य: Rs. 80

नारी की करुणा भी असीमित है और अभिशाप भी। मातृत्व दीनता के चरम को छू सकता है अपने कोख-जाये को कूड़े के ढेर या कि गटर में फेंककर वहीं महानता के शिखर को स्पर्श कर सकता है   आगे...

प्रेरणा

दुर्गा हाकरे

मूल्य: Rs. 150

दो उपन्यास...   आगे...

खामोश होते सवाल

शशिप्रभा शास्त्री

मूल्य: Rs. 120

एक नारी की सशक्त और योजनाबद्ध जीवन जीने की चाह क्या कर सकती है...   आगे...

गूँज

महावीर प्रसाद

मूल्य: Rs. 200

प्रस्तुत है श्रेष्ठ उपन्यास..   आगे...

वे बड़े हो गए

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 125

प्रस्तुत है उत्कृष्ठ उपन्यास...   आगे...

गलत ट्रेन में

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 150

प्रस्तुत है उत्कृष्ठ उपन्यास..   आगे...

अरुंधती

ऋता शुक्ल

मूल्य: Rs. 200

प्रस्तुत है श्रेष्ठ उपन्यास...   आगे...

सब्ज तोरण के उस पार

आशुतोष मुखोपाध्याय (अनुवाद श्रीमती ममता खरे)

मूल्य: Rs. 85

प्रस्तुत है बांग्ला उपन्यास का हिन्दी रुपान्तर....   आगे...

उत्तर सन्धान

सुनील गंगोपाध्याय

मूल्य: Rs. 110

बहुचर्चित बांग्ला कृति धूलिबसन का हिन्दी रूपान्तर   आगे...

लीला चिरन्तन

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 100

गृहस्थी का सब-कुछ छोड़कर अचानक संन्यास ले लेने से उपजी सामाजिक और सांसारिक तकलीफों का चित्रण   आगे...

प्रारब्ध

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 300

प्रस्तुत है बांग्ला उपन्यास का हिन्दी रूपान्तर...   आगे...

बकुल कथा

आशापूर्णा देवी

मूल्य: Rs. 350

इतिहास के विविधरंगी आचार-विचार, व्यवहार और युग के संघर्ष से उत्पन्न विसंगतियों पर प्रकाश डाला गया है...   आगे...

बारी बारणा खोल दो

सुलोचना रांगेय राघव

मूल्य: Rs. 195

प्रस्तुत है बारी बारणा खोल दो...   आगे...

एक नौकरानी की डायरी

कृष्ण बलदेव वैद

मूल्य: Rs. 250

एक नौकरानी की डायरी...

  आगे...

छाया मत छूना मन

हिमांशु जोशी

मूल्य: Rs. 70

प्रस्तुत है हिमांशु जोशी का प्रसिद्ध उपन्य़ास...   आगे...

कठगुलाब

मृदुला गर्ग

मूल्य: Rs. 320

एक बड़ा और कड़े बौद्धिक अनुशासन में रचा गया उपन्यास ‘कठगुलाब’...

  आगे...

तुम्हारा सुख

राजकिशोर

मूल्य: Rs. 100

स्त्रीत्व द्वारा अपनी पहचान की खोज में किये जा रहे संघर्ष की रोमांचक गाथा...   आगे...

अस्तित्व

ज्ञानप्रकाश विवेक

मूल्य: Rs. 150

नये ढंग से स्त्री-विमर्श को केन्द्र में रखता, तथा स्त्री की जटिलताओं, तनाव, भय, असुरक्षा के भाव, तथा अकेलेपन के विषय में सोचने के लिए विवश करता एक उपन्यास   आगे...

क्षमा करना जीजी

नरेन्द्र कोहली

मूल्य: Rs. 75

जिजीविषा से भरी एक जुझारू नायिका पर केन्द्रित नरेन्द्र कोहली का सामाजिक उपन्यास   आगे...

 

‹ First23456Last › इस संग्रह में कुल 362 पुस्तकें हैं|