Durga Prasad Khatri/दुर्गा प्रसाद खत्री
लोगों की राय

लेखक:

दुर्गा प्रसाद खत्री

दुर्गा प्रसाद खत्री

जन्म 12 जुलाई, 1895
गोलोकवास 5 अक्टूबर, 1974

हिन्दी के मशहूर तिलिस्मी उपन्यासकार देवकीनंदन खत्री के सुपुत्र और उनकी परंपरा को आगे बढ़ाने वाले प्रख्यात उपन्यासकार दुर्गा प्रसाद खत्री ने अपने जीवन काल में अनेक प्रसिद्ध कहानियां और उपन्यास लिखे। उन्होंने अपने पिता की तरह ही तिलस्मी एवं ऐय्यारी के अलावा जासूसी, सामाजिक और अद्भुत, किंतु संभावित घटनाओं पर आधारित कई उपन्यासों की रचना की। उनकी रचनाओं को आज भी पाठक बड़े चाव से पढ़ते हैं।

जीवन परिचय
सुप्रसिद्ध उपन्यासकार दुर्गा प्रसाद खत्री का जन्म उत्तर प्रदेश के वाराणसी में जाने माने तिलस्मी उपन्यासकार देवकीनन्दन खत्री के घर में हुआ था। दुर्गा प्रसाद ने वर्ष 1912 में विज्ञान और गणित में विशेष योग्यता के साथ स्कूल लीविंग परीक्षा उत्तीर्ण की। इसके बाद उन्होंने लेखन के क्षेत्र में अपना कॅरियर बनाया। उनके उपन्यास चार प्रकार के हैं- तिलस्मी एवं ऐय्यारी, जासूसी उपन्यास, सामाजिक और अद्भुत किंतु संभाव्य घटनाओं पर आधारित उपन्यास।

दुर्गा प्रसाद ने तिलस्मी उपन्यास में अपने पिता देवकीनंदन खत्री की परंपरा का तो निवर्हन किया ही, साथ ही उसे बड़ी सूक्ष्मता के साथ आगे बढ़ाने का भी काम किया। उनके जासूसी उपन्यासों पर आजादी के दौरान राष्ट्रीय भावना और क्रांतिकारी आंदोलन का प्रभाव दृष्टिगत होता है। सामाजिक उपन्यास प्रेम के अनैतिक रूप के दुष्परिणाम उद्घाटित करते हैं। दुर्गा प्रसाद खत्री के लेखन का महत्व इस संदर्भ में भी है कि उन्होंने जासूसी वातावरण में राष्ट्रीय और सामाजिक समस्याओं को बेहतर तरीक से प्रस्तुत किया।

अपने पिता के उपन्यास ‘भूतनाथ’ को पूरा किया
देवकीनंदन खत्री ने अपने उपन्यास ‘चन्द्रकान्ता सन्तति’ के एक पात्र को नायक बना कर ‘भूतनाथ’ उपन्यास को लिखना शुरू किया था, किंतु असामायिक मृत्यु के कारण वह इस उपन्यास के केवल छह भाग ही पूरे कर पाए थे। दुर्गा प्रसाद जी ने बाकी शेष पंद्रह भाग लिख कर इस उपन्यास को पूरा किया। ‘भूतनाथ’ भी कथावस्तु का अंतिम खंड़ नहीं है। इसके अगले खंड के रूप में दुर्गा प्रसाद लिखित ‘रोहतास मठ’ (दो खंडों में) आता है।

हिंदी के नामी उपन्यासकारों में से एक दुर्गा प्रसाद खत्री ने अपने पूरे जीवन काल में करीब 1500 कहानियां, 31 उपन्यास व हास्य प्रधान लेख विधाओं से पाठकों तक अपने विचार पहुंचाए। एक दिलचस्प बात ये है कि दुर्गा प्रसाद ने ‘उपन्यास लहरी’ और ‘रणभेरी’ नामक दो पत्रिकाओं के सम्पादन का कार्य भी किया था। दुर्गाप्रसाद जी के उपन्यासों को निम्न चार भागों में बांटा जाता है-

तिलस्मी ऐय्यारी उपन्यास
उपन्यासकार दुर्गा प्रसाद खत्री द्वारा लिखित ‘भूतनाथ’ और ‘रोहतास मठ’ तिलस्मी ऐय्यारी विधा के प्रमुख उपन्यास हैं। उन्होंने इनमें अपने पिता की परंपरा को जीवित रखने का ही प्रयत्न नहीं किया, बल्कि उनकी शैली का इस सूक्ष्मता से अनुकरण किया है कि यदि नाम न बताया जाए तो सहसा यह कहना संभव नहीं कि ये उपन्यास देवकीनंदन खत्री ने नहीं, बल्कि किसी दूसरे व्यक्ति ने लिखे हैं।

जासूसी उपन्यास

दुर्गा प्रसाद जी ने स्वतंत्रता-आंदोलन काल में देश की आजादी की लड़ाई से प्रेरित होकर कई जासूसी उपन्यास लिखे। ​’प्रतिशोध’, ‘लालपंजा’, ‘रक्तामंडल’, ‘सुफेद शैतान’ जासूसी उपन्यास होते हुए भी राष्ट्रीय भावना से ओत-प्रोत हैं और भारतीय क्रांतिकारी आंदोलन को प्रतिबिंबित करते हैं। सुफेद शैतान में समस्त एशिया को मुक्त कराने की मौलिक उद्भावना की गई है। शुद्ध जासूसी उपन्यास हैं- ‘सुवर्ण-रेखा’, ‘स्वर्गपुरी’, ‘सागर सम्राट् साकेत’, ‘कालाचोर’ आदि। इन उपन्यासों में उन्होंने विज्ञान के तथ्यों के साथ जासूसी कला को विकसित करने का प्रयास किया है।

सामाजिक उपन्यास
इस रूप में दुर्गा प्रसाद खत्री का अकेला उपन्यास ‘कलंक कालिमा’ है, जिसमें प्रेम के अनैतिक रूप को लेकर उसके दुष्परिणाम को उद्घाटित किया गया है। बलिदान को भी सामाजिक चरित्र प्रधान उपन्यास कहा जा सकता है, किंतु उसमें जासूसी की प्रवृत्ति काफ़ी मात्रा में झलकती है।

संसार चक्र अद्भुत किंतु संभाव्य घटनाचक्र पर आधारित उपन्यास है।

जूनियर खत्री की कहानियों का एकमात्र संग्रह ‘माया’ है। ये कहानियां सामाजिक नैतिक हैं। उनकी साहित्यिक महत्ता यह है कि उन्होंने देवकीनंदन खत्री और गोपालराम गहमरी की ऐय्यारी जासूसी-परंपरा को तो आगे बढ़ाया ही, साथ ही सामाजिक और राष्ट्रीय समस्याओं को जासूसी वातावरण के साथ प्रस्तुत कर एक नई परंपरा को विकसित करने की चेष्टा की।

प्रतिशोध

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

अंग्रेजों के क्रूर शासन से दुःखी होकर आखिर कुछ नवयुवकों ने सशस्त्र विद्रोह कर दिया और देश-द्रोहियों तथा अंग्रेजों के खुशामदी लोगों को भी दण्ड देना प्रारम्भ किया। परन्तु अंग्रेजों ने इस विद्रोह का प्रतिशोध लिया मक्कारी तथा नृशंस दमन से...

  आगे...

बलिदान

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

यह आज की बात नहीं बहुत पुरानी है मगर फिर भी मुझे इस तरह याद है मानों इस घटना को हुए थोड़े ही दिन बीते हों।

  आगे...

भूतनाथ - भाग 7

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 100

भूतनाथ - भाग 7

  आगे...

भूतनाथ - भाग 7

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 100

तिलिस्म और ऐयारी संसार की सबसे अधिक महत्वपूर्ण रचना   आगे...

महात्मा

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

एक महात्मा का अद्भुत हाल जिन पर कई दुष्टों ने एक साथ आक्रमण किया

  आगे...

लाल-पञ्जा

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

क्रान्तिकारी वैज्ञानिक उपन्यास

  आगे...

संसार-चक्र

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

एक बहुत बड़े रईस को रोजगार में भारी नुकसान का सामना करना पड़ा जिसकी वजह से वह कर्ज में लद गया। दीवाले से बचने के लिये मजबूरी में उसने एक सुन्दर युवती की बहुत बड़ी रकम चुरा ली |
तब फिर क्या हुआ ? क्या वह पुलिस और कानून के चक्कर से बच सका?

  आगे...

साकेत

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

वैज्ञानिक उपन्यास

  आगे...

सागर-सम्राट

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 120

वैज्ञानिक उपन्यास

  आगे...

सुवर्ण रेखा

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 75

हिन्दी में श्रेष्ठ वैज्ञानिक उपन्यास

  आगे...

स्वर्ग-पुरी

दुर्गा प्रसाद खत्री

मूल्य: Rs. 120

उस अर्ध विक्षिप्त वैज्ञानिक ने इस धरती पर एक स्वर्ग-पुरी बनाई जिसमें सोने के फाटक, चाँदी के पुल, और शीशे के मकान थे। चुन-चुन कर विद्वान और गुणी जनों को इकट्ठा किया और सचमुच ही इसे स्वर्ग-पुरी बना दिया होता, यदि यहाँ नर्क के कीड़े न पहुंच जाते।

  आगे...

 

   11 पुस्तकें हैं|